CITIZENS’ CONCLAVE

25-27 May, 2018

Highly perturbed by the growing violence, attacks on women and girls, atmosphere of hatred across the nation, attacks on dissent, further marginalization of Dalits and minorities, attacks on educational institutions; realizing the danger to our shared heritage, pluralism and diversity, a few friends got together and constituted a group ‘ India  Inclusive’  to safeguard not only the shared heritage, collective consciousness but also to protect the idea of an inclusive India. This India of our dreams is forward looking and free of fear. This inclusive India has existed for many centuries; it welcomed diversity with open arms. This India has encouraged and produced diversity of religion, ethnicity, language, habits, practices and ideas, by building a compassionate, peaceful and nonviolent cultural ethos.

India Inclusive logoSince its earliest imagination, the idea of India has always been based on plurality. What has been created through millennia of advent and integration is a grand and many-hued heritage, shared by all who at various points of time became part of it and contributed to it in their own unique way.

 

Today we very strongly feel that the idea of this inclusive India is under sever threat. The divisive forces have contaminated all spaces of thought and expression. Hate and fear looms large. The democratic structures through which a common citizen expresses her/his aspirations and fulfills her/his dreams are under intense attack. We have learnt from the experience of neighboring countries, once these structures are allowed to crumble, nations pay huge prices to rebuild build them. We cannot be complacent and allow the forces of hate to grow on our soil and convert the subcontinent into a cauldron of intolerance.

There is no dearth of examples, where countries build on hatred towards, ethnic, religious or linguistic minorities, economically and socially weaker sections have been torn apart. We fear that fascist forces today are pushing this land on that path. With a sense of urgency we rise to call upon all peace loving citizens of the country to come together and resist the onslaught on the Idea of inclusive India.

India Inclusive is an informal open platform; it will network with citizens and civil society groups across India, who want to preserve the constitutional values and it will strive to build resistance against the forces of hatred. India Inclusive strongly believes in safeguarding our Constitution in its letter and spirit. At the present political juncture, the attack on the democratic rights is vehement. Rise of hatred and revenge crimes have been fanned by well designed and motivated right –wing forces.

India Inclusive core team includes Dr Harshvardhan Hegde(orthopedic surgeon), Raza Haider (media professional) and Leena Dabiru(Development and Legal Consultant) and Shabnam Hashmi (Independent activist). We hope to expand it to likeminded people but it will remain a platform and not an organization.

We are launching India Inclusive with a

Citizen’s Conclave: Building an Inclusive India from May 25-27, 2018 at the Constitution Club, New Delhi.  Public intellectuals, students, activists, lawyers, academicians, media personalities are participating in the deliberations. The conclave is open to all concerned citizens who want to contribute in building An Inclusive India.

Citizens Conclave is guided by the vision of reclaiming and realizing the idea of an inclusive India: an India that necessarily includes and respects all of our country’s immense diversity of cultures, faiths, languages, peoples and communities – all held together, and mediated, by the core constitutional idea and values of citizenship, the touchstone of democracy.

The Conclave will create a platform to muster resources and forces – material, political intellectual and ethical – to combat the systematic use of hatred, whether operating at the level of the state or of society, and violence in the name of religion, caste and community to wreak havoc on citizens – and to destroy the very basis of democracy itself.

It’s time to realize that the might of organized political forces of prejudice and hatred must now be confronted by the sovereign rights and might of democratic citizenship enshrined in the Constitution of India.

Taking forward the deliberations, India Inclusive plans to organize similar conclaves in many other cities in the coming months. We also urge the fraternal organizations to organize similar conclaves in other parts of the country on their own initiative.

 The Citizens’ Conclave is 100% non- funded and is being organized on contributions from individuals.  A campaign to crowd source has been launched at http://contribute.crowdnewsing.com/fundraiser/indiainclusive

We urge peace loving citizens to Join the Conclave. Do come in large number, saving constitutional values is our collective responsibility.

बढ़ती हुई हिंसा, महिलाओं और लड़कियों पर बढ़ते हुए हमलों, देश भर में बढ़ते हुए नफ़रत के माहौल, प्रतिरोध करने पर होने वाले हमलों, दलितों एवं अल्पसंख्यकों को और अधिक हाशिए पर धकेले जाने, शैक्षिक संस्थानों पर होने वाले हमलों से अत्यधिक परेशान होकर और हमारी साझा विरासत, बहुलवाद और विविधता को दरपेश ख़तरे का अहसास करते हुए कुछ दोस्त जमा हुए और उन्होंने ‘इंडिया इन्क्लूसिव’ ग्रुप का गठन किया, जिसका उद्देश्य न केवल साझा विरासत और सामूहिक चेतना की रक्षा करना है, बल्कि सभी के समावेशन वाले भारत के विचार की रक्षा करना भी है। यह समावेशन वाला भारत सदियों से अस्तित्व में है, इसने विविधता का खुले दिल से स्वागत किया है। इसी भारत ने सहानुभूतिपूर्ण, शांतिपूर्ण और अहिंसात्मक सांस्कृतिक लोकाचार की रचना करके धर्मों, क्षेत्रीयताओं, भाषाओं, स्वभावों, रिवाजों, पध्दतियों और विचारों को प्रोत्साहित भी किया और उत्पन्न भी किया।

अपनी प्राचीनतम कल्पना के समय से ही भारत का विचार हमेशा से ही बहुलता पर आधारित रहा है। सहस्राब्दियों के आगमन और एकीकरण से जो कुछ तैयार हुआ वह एक विशाल बहुरंगी विरासत है, वह उन सभी की साझा विरासत है जो अलग-अलग समय पर इसका हिस्सा बने और जिन्होंने अपने विशिष्ट तरीक़े से इसमें अपना योगदान दिया।

आज हम महसूस करते हैं कि यह समावेशी भारत का विचार ज़बर्दस्त ख़तरे में है। विभाजनकारी ताक़तों ने विचार और अभिव्यक्ति के सभी स्थानों को दूषित कर दिया है। हर तरफ़ नफ़रत और डर का माहौल है। जिन जनतांत्रिक ढांचों के माध्यम से आम नागरिक अपनी आकांक्षाएं व्यक्त करता है और अपने सपने पूरे करता है, उस पर ज़बर्दस्त हमले हो रहे हैं। पड़ौसी देशों के अनुभव से हमने सीखा है कि अगर एक बार इन ढांचों को ध्वस्त होने दिया जाता है तो राष्ट्र को इनके पुनर्निर्माण के लिए बहुत बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ती है। इसी वजह से हम उदासीन रह कर अपने देश में नफ़रत की ताक़तों को फलते-फूलते और इस उपमहाद्वीप को असहिष्णुता की भट्टी में परिवर्तित होते नहीं देख सकते।

ऐसी मिसालों की कमी नहीं है, जहां क्षेत्रीय, धार्मिक अथवा भाषायी अल्पसंख्यकों, आर्थिक और सामाजिक रूप से कमज़ोर वर्गों के प्रति बढ़ने वाली नफ़रत ने देशों के टुकड़े कराए हैं। हमें डर है कि फासिस्ट ताक़तें आज देश को इसी रास्ते पर धकेल रही हैं। समय की ज़रूरत को देखते हुए हम देश के सभी शांतिप्रिय नागरिकों का आह्वान करने के लिए खड़े हुए हैं कि वे साथ आएं और समावेशी भारत के विचार पर होने वाले हमले को रोकें।

इंडिया इन्क्लूसिव एक अनौपचारिक खुला प्लेटफ़ॉर्म है, यह भारत भर में ऐसे नागरिकों और सिविल सोसाइटी ग्रुपों का नेटवर्क तैयार करेगा, जो संवैधानिक मूल्यों को बचाए रखना चाहते हैं और यह नफ़रत की ताक़तों के विरुध्द एक प्रतिरोध तैयार करेगा। इंडिया इन्क्लूसिव भारत के संविधान की पूरी तरह रक्षा करने में विश्वास करता है। वर्तमान राजनीतिक दौर में जनतांत्रिक अधिकारों पर तीव्र हमले हो रहे हैं। दक्षिण पंथी ताक़तें योजनाबध्द तरीक़े से विशिष्ट उद्देश्य के साथ नफ़रत और प्रतिशोध के अपराधों को बढ़ावा दे रही हैं।

इंडिया इन्क्लूसिव की कोर टीम में डा. हर्षवर्धन हेगड़े (ऑर्थोपीडिक सर्जन), रज़ा हैदर (मीडिया प्रोफेशनल), लीना डाबिरू (डेवलपमेंट एण्ड लीगल कन्सलटेंट) और शबनम हाश्मी (स्वतंत्र कार्यकर्ता) शामिल हैं। हम चाहते हैं कि इसमें समान विचार वाले लोग शामिल हों लेकिन यह एक प्लेटफ़ॉर्म ही रहेगा, कोई संगठन नहीं बनेगा।

हम इंडिया इन्क्लूसिव की शुरुआत कर रहे हैं,

सिटिजन’स कॉन्क्लेवः समावेशी भारत का निर्माण – 25-27 मई, 2018 को कान्स्टीट्यूशन क्लब, नई दिल्ली में। पब्लिक इंटेलेक्चुअल्स, छात्र, कार्यकर्ता, वकील, शिक्षाविद्, मीडियाकर्मी विचार विमर्श में हिस्सा ले रहे हैं। इस कान्क्लेव में ऐसे समस्त नागरिक भाग ले सकते हैं, जो एक समावेशी भारत के निर्माण में योगदान करने के इच्छुक हैं।

इस विचार विमर्श को आगे बढ़ाते हुए इंडिया इन्क्लूसिव की योजना है कि आने वाले महीनों में कई अन्य शहरों में ऐसी ही कान्क्लेव का आयोजन किया जाए। साथी संगठनों से हम अपील करेंगे कि वे अपनी पहल पर देश के अन्य भागों में इसी प्रकार की कान्क्लेव का आयोजन करें।

सिटिजन’स कान्क्लेव 100%  नॉन-फण्डेड है और व्यक्तियों से चन्दा करके आयोजित की जा रही है। क्राउड सोर्सिंग के लिए एक अभियान http://contribute.crowdnewsing.com/fundraiser/indiainclusive  पर शुरू किया जा चुका है।

हम शांतिप्रिय नागरिकों से अपील करते हैं कि इस कान्क्लेव में शामिल हों। बड़ी संख्या में आएं, संवैधानिक मूल्यों को बचाना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है।

CITIZENS’ CONCLAVE

25-27 May, 2018

Speaker’s Hall, Constitution Club,

Rafi Marg, New Delhi

May 25, 2018

CITIZENS’ CONCLAVE

25-27 May, 2018

Speaker’s Hall, Constitution Club,

Rafi Marg, New Delhi

 

May 25, 2018

9.00-9.30

Registration & Tea

9.30-10.00

Introducing India Inclusive

 

Dr Harshvardhan Hegde

Shabnam Hashmi

10.00-1.00pm

Dissent & Democracy

Chair: Ashok Vajpeyi

Speakers:

Iftikhar Ahmad Khan

Jagmati Sangwan

Kanhaiya Kumar

Meeran Chadha Borwankar

Rajdeep Sardesai

Saba Dewan

Siddharth Vardarajan

Usha Ramanathan

1.00-2.00- Lunch

2.00- 3.30

Education for Inclusive India 

Chair: Abha Dev Habib

Speakers:

Fahad Ahmad

Manasi Thapaliyal

Munna Sannaki

Pooja Shukla

Richa Singh

Vinerjeet Kaur

 3.30-4.00- Tea Break

4.00-5.30

 Attack on Judiciary & Rule of Law  

Chair: Justice Kolse Patil

Speakers:

Colin Gonsalves

Ramesh Nathan

Rebbeca John

 6.30-8.30

Economy, Industry, Development

Chair: Arvind Mayaram

Speakers:

Ashok Singh Garcha

Hemant Shah

Madhuresh Kumar

Paranjoy Thakurta

May 26, 2019

9.30-11.00

State of Dalits and Minorities

Chair: Harsh Mander

Speakers:

Jignesh Mevani

Ram Puniyati

Teesta Setalvad

Tehmina Arora

11.00-11.30- Tea Break

11.30-1.00

Gender Rights: Attacks & Resistance

Chair: Nisha Agarwal

Speakers:

Annie Raja

Kavita Krishnan

Rachna Gopalan

Syeda Hameed

1.00-2.00- Lunch

2.00-3.30

Silencing the Media

Chair: Hartosh Bal

Speakers:

Bhasha Singh

Niranjan Takle

Sankarsan Thakur

Swati Chaturvedi

3.30-4.00- tea Break

4.00-5.30

Scientific Temper, Rationality & HRDs

Chair: Kavita Srivastava

Speakers:

Gauhar Raza

Mathew Jacob

Megha Pansare

6.00-6.30

Tea

6.30- 8.30 – Poetry and movement songs

Ashok Kumar Pandey

Gauhar Raza

Manu Kohli

Raza Haider

Sangwari

May 27, 2019

9.30-11.00:

Pluralism, Diversity and Culture

Chair: Seema Mustafa

Speaker:

Ganesh Devi

Jyotirmaya  Sharma

Raza Haider

Sohail Hashmi

11.00-11.30- Tea Break

11.30-1.00

Nationalism

Chair: K Satchidanandan

Speakers:

Apoorvanand

Sadanand Menon

1.00-2.00- Lunch

2.00-3.30

Building an Inclusive India

Chair: Jyoti Malhotra

Speakers:

Sashi Kumar

Sagarika Ghosh

3.30-4.00

Tea

4.00-6.30pm

Open Session

Building Resistance

Advertisements